B.Ed After 12th: सरकारी टीचर बनने के लिए अब ग्रेजुएशन की नहीं पड़ेगी जरूरत, 12वीं के बाद करें बीएड, जाने सम्पूर्ण डिटेल

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

यदि आप भी 12वीं कक्षा में हो या 12वीं कर चुके हो और अपने टीचर बनने के सपने को पूरा करना चाहते हो तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए बेहद ही महत्वपूर्ण रहने वाला है क्योंकि इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको B.Ed After 12th के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है। जैसा की हम जानते है हमारे पास स्कुल टीचर बनने के लिए तीन ऑप्शन रहते है।

पहला यह की या तो आप 12वीं कक्षा पूरी करने के बाद 2 साल का डिप्लोमा इन एलिमेंट्री एजुकेशन कोर्स यानी की डीएलएड करे। दुसरा ऑप्शन आप 12वीं बाद 4 साल का इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम यानी की आईटीईपी कोर्स करे।

तीसरा ऑप्शन आप ग्रेजुएशन के बाद 2 साल की बीएड करे। नई शिक्षा नीति के अंतर्गत नए पाठ्यक्रमों पर जोर दिया जा रहा है। इस नई शिक्षा नीति के अंतर्गत 4 साल के आईटीईपी कोर्स की शुरुआत की गई।

आईटीईपी यानी की इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम, के अंतर्गत आपको ग्रेजुएशन और बीएड की मिक्स डिग्री दी जाएगी यानी की आईटीईपी के स्टूडेंट को अलग से ग्रेजुएशन करने की जरूरत नहीं है।

ये भी पढ़ें   Rajasthan Govt. Update: डिप्टी सीएम दीया कुमारी का विद्यार्थियों के लिए बड़ा तोहफा, 70 लाख विद्यार्थियों को मिलेगा लाभ

अभी बीच में यह भी बाते बनी की आईटीईपी आने के बाद स्नातक के बाद होने वाली बीएड को बंद कर दिया जाएगा। यह स्पष्ट है की ग्रेजुएशन के बाद होने वाले बीएड को बंद नहीं किया जाएगा।

लेकिन आईटीईपी कोर्स पर जरूर जोर दिया जाएगा। आज के आर्टिकल के माध्यम से हम आपको आईटीईपी कोर्स से जुड़ी सम्पूर्ण अपडेट बताने वाले है। आप हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

12वीं बाद ITEP कोर्स करके अपने टीचर बनने के सपने को पूरा करे

NCTE (National Council for Teacher Education) द्वारा देश में टीचिंग कोर्स की मान्यता दी जाती है। एनसीटीई ने कुछ सरकारी बीएड कॉलेजो को आईटीईपी कोर्स चलाने की अनुमति दी है, जो की पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर दी गई।

ये भी पढ़ें   Diploma Courses After 12th: कम पैसो में करे 12वीं बाद ये डिप्लोमा कोर्स, नौकरी की अधिक संभावना और मिलेगी हाई सैलेरी

जिसका आकलन करने के बाद सरकारी कॉलेजो के साथ ही अब निजी बीएड कॉलेजो को भी इस कोर्स के चलाने की अनुमति दी जाएगी। जैसा की हम जानते है 12वीं बाद डीएलएड कोर्स करने के बाद आप प्राथमिक स्तर के टीचर बन सकते है।

वही यदि आप बीएड या आईटीईपी का कोर्स करते हो तो आप माध्यमिक स्तर के टीचर बन सकते है। न्यू एजुकेशन पॉलिसी की बात करे तो इसके अंतर्गत प्रस्तावित कक्षाओं के स्तर की बात करे तो फाउंडेशन और प्रेपरेटरी स्टेज यानी की 5वीं तक की कक्षाओ के लिए डीएलएड पास शिक्षको की नियुक्ति की जाएगी। वही मिडिल और सेकण्डरी स्टेज के छात्रों के लिए बीएड या ITEP उत्तीर्ण शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी।

ऑप्टोमेट्री का क्षेत्र करियर के हिसाब से कैसा है ?

ओप्टिमीट्रिस्ट एक ऐसा विशेषज्ञ होता है जो की आपकी आँखों का चेकअप कर सही लेंस का सुझाव देता है। जैसा की हम जानते है हॉस्पिटल, चश्मे की दूकान, आई क्लिनिक सभी जगहों में ऑप्टोमीट्रिस्ट मिल जाएंगे। यदि आप भी इस फिल्ड में नौकरी चाहते हो तो आपको भी इसके लिए सुनहरा अवसर मिल जाता है।

ये भी पढ़ें   पीएम उज्ज्वला योजना लाभार्थी ध्यान दें! ₹300 सब्सिडी के लिए सभी को ये काम करना जरूरी, वरना नहीं मिलेगी सब्सिडी, नया आदेश जारी

यदि आप 12वीं बाद 2 साल का डिप्लोमा इन ऑप्टिमिट्री कर लेते हो तो आपको अवसर प्राप्त हो जाता है या फिर आप 3 साल का बीएसटीसी इन ऑप्टोमेट्री कोर्स भी कर सकते हो। इसके आलावा भी आप चाहे तो 4 वर्षीय बेचलर इन ऑप्टोमेट्री भी कर सकते हो।

Leave a comment

Join WhatsApp